Tyres पर क्यों लगे होते हैं ये ‘कांटे’? सिर्फ जीनियस ही जानते हैं! आज आप भी जान लें l देखिए video

Tyres पर क्यों लगे होते हैं ये ‘कांटे’? सिर्फ जीनियस ही जानते हैं! आज आप भी जान लें l देखिए video

अगर आपने वाहनों के नए टायर्स पर गौर किया होगा, तो आपको ध्यान उनके ऊपर लगे रबर के ‘काटों’ पर जरूर गया होगा. लेकिन, शायद ज्यादातर लोगों को यह नहीं पता होगा कि इन्हें टायर्स के ऊपर क्यों लगाया जाता है. बहुत ही कम लोगों को इसकी जानकारी होगी. हालांकि, आज आपको भी इसके बारे में पता चल जाएगा. दरअसल, टायर्स के ऊपर रबर के ‘काटों’ को खास मकसद से बनाया जाता है. टायर्स की ऊपरी सतह पर लगे इन रबर के कांटों को वेंट स्पूज (Vent Spews) कहते हैं.

इन्हें वाहनों के सड़क पर चलने के दौरान टायरों की क्षमता को बेहतरीन करने के लिए बनाया जाता है. हालांकि, इनका काम तभी तक होता है जब तक टायर्स को बनाया जा रहा है. एक बार जब टायर बनकर तैयार हो जाता है, तो यह किसी काम के नहीं होते हैं. बाद में इनके होने या न होने से कोई फर्क नहीं पड़ा है. आप इन्हें हटा भी सकते हैं.

Tyres पर क्यों लगे होते हैं ये 'कांटे'? सिर्फ जीनियस ही जानते हैं! आज आप भी जान लें

इसे ऐसे समझिए कि वाहन के चलने से टायर्स पर दबाव आता है, इस दबाव के प्रभाव को कम करने के लिए टायर का मजबूत होना जरूरी है वरना वह बेहतर परफॉरमेंस नहीं दे पाएगा. मजबूत टायर बनाने के लिए जितना जरूरी अच्छे मैटेरियल का इस्तेमाल करना है, उतना ही जरूरी है कि उसे बनाने की प्रक्रिया में कोई चूक न हो.

फैक्ट्रियों में टायर बनाने के लिए रबर को पिघलाकर टायर की शेप दी जाती है, इस प्रक्रिया के दौरान टायर और मोल्ड के बीच कोई हवाई बुलबुले न रह जाए, यह सुनिश्चित किया जाता है. इसी दौरान Vent Spews बन जाते हैं. यह टायर बनाने की प्रक्रिया का हिस्सा होते हैं.

फिर जब आप टायरों को इस्तेमाल करते हैं, तो टायर की जो सतह सड़क पर लगती है, उस पर लगे यह रबर के कांटे घिसकर खत्म हो जाते हैं लेकिन आपके टायर पर इसका कोई असर नहीं पड़ता है. हालांकि, टायर की साइड में Vent Spews लंबे समय तक रह पाते हैं.नोट – प्रत्येक फोटो प्रतीकात्मक है (फोटो स्रोत: गूगल) [ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. EkBharat News अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Rutvisha patel

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *