शादी के 5 सबसे घटिया रीती रिवाज l शादी होते ही इन देशों में देखिये क्या होता है | देखिए video

शादी के 5 सबसे घटिया रीती रिवाज l शादी होते ही इन देशों में देखिये क्या होता है | देखिए video

दुनिया अजीब-अजीब घटनाओं और परंपराओं से भरी हुई है, अक्सर भारत के बारे में कहा जाता है कि यहां कदम-कदम पर बोली और रीति-रिवाज बदल जाते हैं लेकिन दोस्तों ऐसा नहीं हैं, जितनी विभिन्ताएं और परंपरायें हमारे देश में हैं ना वैसे ही दुनिया के दूसरे देशों में भी है। चलिए बात करते हैं शादी की, जिसकी अहमियत दुनिया के हर देश में हैं। इसलिए हर देश में शादी करने के तरीके भी काफी अलग-अलग और दिलचस्प हैं।

दाएं हाथ में रिंग

पूर्व देशों के लोगों के लिए सगाई की अंगूठी काफी मायने रखती हैं जिसे कि वे बांए की बजाय दाएं हाथ की तीसरी अंगुली में पहनते हैं। इसके पीछे कारण उनका धर्म है क्योंकि ऐसा माना जाता है कि सारे शुभ और धार्मिक काम हम दाएं हाथ से ही करते हैं इसलिए सगाई भी दाएं हाथ से होनी चाहिए। तीसरी अंगुली इसलिए क्योंकि इसकी नस सीधे दिल तक पहुंचती है।

मोजे के किनारे काटना

यह शादी के वक्त होता है जब शादी करने वाला लड़का ब्रेकफास्ट करता है। उसके ठीक बाद उसके दोस्त उसके पहने मोजे के किनारे काट देते हैं। इसके पीछे कारण यह बताया जाता है कि मोजे काटने की वजह से लड़का कभी भी अपनी बीवी को अकेले छोड़कर कहीं नहीं जायेगा।

शादी की सेज

ग्रीस जैसे देशों में लड़के-लड़की की शादी के बाद पहली रात लड़की के घर पर होती है। इसलिए सुहागरात की सारी तैयारियां लड़की के घर वाले करते हैं। लड़की का भविष्य अच्छा हो वो सुखी और संपन्न रहे इसके लिए लड़की वाले सेज पर पैसे और फूल की माला सजाते हैं ताकी लड़की का नया जीवन प्यार और पैसे से महकता रहे।

सेज पर छोट बच्चा

पूर्व देशों में शादी की सेज पर घर-परिवार की ओर से छोटे बच्चे( जिसकी उम्र 1 साल से कम हो) को 5 मिनट के लिए लिटाया जाता है ताकि नये जोड़ों को जल्दी से संतान सुख मिले।

ताला लगाना

पूर्वी देशों में शादी के बाद नये जोड़े को एक सूखे पेड़ पर जंजीर बांधकर उसपर ताला लगाना होता है और उसकी चाभी को जंगल या नदी में फेंकनी होती है ताकी दोनों का आने वाला जीवन प्यार और भरोसे से बना रहे और उसमें किसी तीसरे की जगह ना हो। नोट – प्रत्येक फोटो प्रतीकात्मक है (फोटो स्रोत: गूगल) [ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. EkBharat News अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Rutvisha patel

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *