नाखूनों पर सफेद रंग के निशान क्यों पड़ जाते हैं ? नाखूनों का रंग क्या संकेत देता है ? देखिए video

नाखूनों पर सफेद रंग के निशान क्यों पड़ जाते हैं ? नाखूनों का रंग क्या संकेत देता है ? देखिए video

अगर किसी को कोई बीमारी होती है और वो डॉक्टर के पास जाता है. जांच के दौरान अक्सर डॉक्टर मरीज के नाखून भी देखते हैं. पहले के समय में आयुर्वेदाचार्य भी नाखून, हाथ और जीभ देखकर बीमारी के बारे में बता दिया करते थे. इसका कारण है कि नाखूनों से इंसान की सेहत का पता लगाया जा सकता है. अगर किसी के पैर या हाथों के नाखूनों पर सफेद धब्बे या निशान दिखते हैं तो इसके पीछे कुछ कारण हो सकते हैं. आमतौर पर नाखून के सफेद धब्बों को ल्यूकोनीशिया (Leukonychia) भी कहा जाता है. इसमें नाखून की प्लेट को नुकसान होता है और उनका रंग बदल जाता है. अगर आपके नाखून में सफेद निशान दिख रहे हैं, तो तुरंत अलर्ट हो जाएं और कारण जानने के बाद उसका इलाज भी करें. अगर आपको नाखूनों पर भी सफेद निशान है, तो अब इसका कारण भी जान लीजिए.

1. मैनीक्योर से नुकसान (Damage from manicures)

नाखूनों को मैनीक्योर करवाने से नाखून के नीचे की त्वचा को नुकसान हो सकता है, जिसे नेलबेड कहा जाता है. शाफर क्लिनिक, NYC में एक कॉस्मेटिक और स्किन एक्सपर्ट डेंडी एंगेलमैन के मुताबिक, मैनीक्योर से नाखूनों को काफी नुकसान हो सकता है और इस नुकसान से नाखूनों पर सफेद धब्बे आ सकते हैं. यदि आपका मैनीक्योरिस्ट नाखून को मैनीक्योर करने के लिए शॉर्प इक्युपमेंट्स का प्रयोग करता है तो उससे नाखूनों को नुकसान होगा और सफेद धब्बे आ सकते हैं. ये सफेद धब्बे नाखूनों को बार-बार नुकसान पहुंचने का भी संकेत हो सकते हैं. मैनीक्योर से नाखून फट सकते हैं, छिल सकते हैं या कमजोर हो सकते हैं.

2. फंगल इंफेक्शन (Fungal infection)

नाखूनों पर सफेद धब्बे का एक और आम कारण फंगल संक्रमण है. ऐसा तब होता है जब वातावरण के रोगाणु आपके नाखूनों या आसपास की त्वचा की छोटी-छोटी दरारों से अंदर चले जाते हैं और उससे फंगल इन्फेक्शन हो जाता है. इंफेक्शन के कारण नाखून का टूटना, मोटा होना या पीला या भूरा होना फंगल इंफेक्शन की निशानी हैं. फंगल इंफेक्शन से नाखूनों को बचाए रखने के लिए ये उपाय करने चाहिए:

(Image credit: Gettyimages and pexels)

  • हाथ या पैर को धोने के बाद अच्छी तरह से सुखाएं.
  • पैरों के नाखूनों में सफेद निशान है, तो मोजे रोजाना बदलें.
  • ऐसे जूते पहनें जिनकी फिटिंग अच्छी हो, हवादार हों और बहुत टाइट न हों.
  • जिम, मैदान जैसी सार्वजनिक स्थानों पर नंगे पैर चलने से बचें.
  • फंगल इंफेक्शन का इलाज करने के लिए डॉक्टर एंटीफंगल दवा देते हैं, जिससे फंगल इंफेक्शन धीरे-धीरे ठीक हो जाता है. नाखून को पूरी तरह से ठीक होने में कई महीने लग सकते हैं.

3. मिनरल्स की कमी (Mineral deficiency)

कुछ विशेषज्ञों का कहना है कि आपके नाखूनों पर सफेद धब्बे इस बात का संकेत हो सकते हैं कि आप में कैल्शियम या जिंक जैसे मिनरल्स की कमी के कारण हो सकते हैं. नाखून प्लेट कुछ अनुपात में कई प्रकार के पोषक तत्वों से बनी होती है इसलिए पोषक तत्वों की कमी नाखूनों पर दिखाई दे सकती है. लेकिन अन्य विशेषज्ञ इस बात को पूरी तरह सच नहीं मानते, इसलिए इस पर और रिसर्च की जरूरत है. कैल्शियम और जिंक की कमी से ये समस्याएं भी हो सकती हैं.

कैल्शियम के कम होने से समस्याएं:

  • स्किन ड्राई होना
  • नाखून कमजोर होना
  • मांसपेशियों में ऐंठन होना
  • बाल रुखे होना
  • मेमोरी कमजोर होना

जिंक के कम होने से समस्याएं:

  • बाल झड़ना
  • सर्दी वाला संक्रमण
  • भूख कम लगना
  • घाव धीरे भरना
  • दस्त लगना
  • चिड़चिड़ापन होना

4. कुछ दवाएं (Certain medications)

कुछ दवाएं आपके नाखूनों की ग्रोथ को रोक सकती हैं या फिर नेल बेड को नुकसान पहुंचा सकती हैं, जिससे पूरे नाखून पर सफेद रेखाएं दिखाई देने लगती हैं. ये दवाएं धीमी नाखून वृद्धि, नाखून पतले और टूटने जैसे लक्षण भी पैदा कर सकती हैं. कई अलग-अलग दवाएं आपके नाखूनों के विकास को रोकती हैं, उनमें शामिल हैं:

  • कैंसर के लिए कीमोथेरेपी दवाएं
  • रेटिनोइड्स, जिनका उपयोग मुँहासे के इलाज के लिए किया जाता है
  • कुछ एंटीबायोटिक्स, जिनमें सल्फोनामाइड्स और क्लोक्सासिलिन शामिल हैं
  • लिथियम
  • कार्बामाजेपिन जैसी दवाएं
  • एंटिफंगल जैसे इट्राकोनाजोल
  • कुछ ब्लड प्रेशर की दवाएं जैसे मेटोप्रोलोल

5. धातु के संपर्क में आना (Heavy metal poisoning)

नाखून पर सफेद धब्बे इस बात का संकेत हो सकते हैं कि आप थैलियम और आर्सेनिक जैसी जहरीली भारी धातुओं के संपर्क में आए हैं. यह तब हो सकता है जब आप दूषित खाद्य पदार्थ खाते हैं या किसी इंडस्ट्रियल एरिया में जाते हैं. इस कारण से नाखूनों में मीस लाइन्स नामक सफेद बैंड विकसित हो सकते हैं. इसके साथ ही ये समस्याएं भी होने लगती हैं:नोट – प्रत्येक फोटो प्रतीकात्मक है (फोटो स्रोत: गूगल) [ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. EkBharat News अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Rutvisha patel

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *