मुकेश अम्बानी की सिक्योरिटी का खर्च कितना है ? देखिए video

मुकेश अम्बानी की सिक्योरिटी का खर्च कितना है ? देखिए video

सरकार ने देश के प्रमुख उद्योगपति मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) के सुरक्षा कवर को बढ़ाकर ‘जेड प्लस’ कर दिया है। यह टॉप कैटेगरी की सुरक्षा है। सरकार ने केंद्रीय खुफिया एवं सुरक्षा एजेंसियों द्वारा अंबानी पर खतरे की समीक्षा किए जाने के बाद यह कदम उठाया है। आधिकारिक सूत्रों ने गुरुवार को यह जानकारी दी। मुकेश अंबानी को पहली बार 2013 में ‘भुगतान आधार’ पर सीआरपीएफ कमांडो का ‘जेड’ श्रेणी का सुरक्षा कवर दिया गया था। रिलायंस इंडस्ट्रीज (Reliance Industries) के अध्यक्ष की पत्नी नीता अंबानी को ‘वाई प्लस’ श्रेणी की सुरक्षा मिली हुई है, जिसमें कमांडो की संख्या कम होती है।

सुरक्षा में लग सकते हैं कुल 40-50 कमांडो

ब्लूमबर्ग इंडेक्स के ताजा आंकड़ों के अनुसार अंबानी दुनिया के 10वें सबसे धनी व्यक्ति हैं। सूत्रों ने बताया कि मुकेश अंबानी की सुरक्षा को टॉप कैटेगरी अर्थात ‘जेड प्लस’ में बदल दिया गया है। सूत्रों ने कहा कि केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) को मौजूदा सुरक्षा कवर को बढ़ाकर ‘जेड प्लस’ करने और उनकी सुरक्षा में और कमांडो शामिल करने के लिए कहा जा सकता है। उनकी सुरक्षा में कुल 40-50 कमांडो शामिल हो सकते हैं, जो पाली में काम करते हैं। सीआरपीएफ अभी अंबानी के आवास और कार्यालय परिसर को भी सुरक्षा प्रदान करता है। पिछले साल की शुरुआत में अंबानी के घर के पास विस्फोटकों से लदी एक एसयूवी कार बरामद हुई थी। उसके बाद अंबानी की सुरक्षा बढ़ा दी गई थी।

गौतम अडानी को भी मिल रही जेड कैटेगरी की सुरक्षा

mukesh ambani z plus

अडानी ग्रुप के अध्यक्ष गौतम अडाणी को भी पिछले महीने केंद्र सरकार ने सीआरपीएफ कमांडो का ‘जेड’ श्रेणी का वीआईपी सुरक्षा कवर मुहैया कराया था। यह सुविधा भी ‘भुगतान के आधार’ पर मुहैया की जा रही है। सीआरपीएफ जिन प्रमुख लोगों को सुरक्षा मुहैया कराता है, उनमें केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह , कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और उनके बच्चे राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा भी शामिल हैं।

119 लोगों को सुरक्षा दे रहा सीआरपीएफ

सीआरपीएफ के महानिदेशक (डीजी) कुलदीप सिंह ने गुरुवार को संवाददाताओं से कहा कि बल 119 लोगों को सुरक्षा प्रदान कर रहा है। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने इसे ‘वीआईपी’ सुरक्षा मुहैया कराने के लिए एक नयी बटालियन प्रदान की है। इस कार्य के लिए पहले से ही छह बटालियन हैं और ऐसी प्रत्येक इकाई में लगभग 800 कर्मी होते हैं।

कितनी तरह की होती है सुरक्षा

देश में सुरक्षा उन खास लोगों को दी जाती है, जिनकी जान को जोखिम होता है। खतरे का स्‍तर जिस तरह का होता है, उसी तरह की सुरक्षा प्रदान की जाती है। खतरे को देखते हुए सुरक्षा श्रेणी को मुख्‍य रूप से 6 कैटेगरी में बांटा गया है। इनमें एसपीजी, जेड+ (उच्चतम लेवल), जेड, वाई+, वाई और एक्स कैटेगरी शामिल हैं। यह सिक्‍योरिटी कवर राष्ट्रपति, उपराष्‍ट्रपति, प्रधानमंत्री, सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट के जज, भारतीय सशस्त्र बलों के प्रमुखों, राज्य के राज्यपाल, मुख्यमंत्री, कैबिनेट मंत्री, अभिनेता और अन्य वीआईपी को मिलती है।

इजराइली मार्शल आर्ट में ट्रेंड हैं अंबानी के पर्सनल गार्ड्स

मुकेश अंबानी के पास करीब 15-20 पर्सनल सिक्योरिटी गार्ड्स भी हैं। ये गार्ड्स बिना हथियारों के होते हैं। इन गार्ड्स को इजराइल की सिक्योरिटी कंपनी ने ट्रेनिंग दी है। ये गार्ड्स अंबानी और उनके परिवार की सुरक्षा में तैनात रहते हैं। ये सिक्योरिटी गार्ड्स क्राव मगा (इजराइली मार्शल आर्ट) में ट्रेंड हैं। ये गार्ड्स दो शिफ्ट में काम करते हैं। इनमें भारतीय सेना के रिटायर्ड और NSG के जवान भी शामिल हैं। नोट – प्रत्येक फोटो प्रतीकात्मक है (फोटो स्रोत: गूगल) [ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. EkBharat News अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Rutvisha patel

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *