कुछ Medicine के पीछे ये Red Line में क्यों दिया होता है ? देखिए video

कुछ Medicine के पीछे ये Red Line में क्यों दिया होता है ? देखिए video

हर व्यक्ति को कभी न कभी दवा की जरूरत पड़ती है. डॉक्टर हमें जो भी दवाईयां लिखता है हम जाकर ले लेते हैं. कई बार ऐसा भी होता है कि हम खुद ही अंदाजे से या किसी के कहने से दवाई ले लेते हैं जिसका हमें कभी-कभी बुरा नतीजा भी भुगतना पड़ जाता है. हम इस बात पर ध्यान नहीं देते कि दवाई की पैकेट पर बनाए गए निशानों का क्या मतलब होता है. अगर आपने दवा खरीदने के बाद कभी नोटिस किया हो तो देखेंगे कि कुछ दवाइयों के पत्ते या पैकेट पर लाल रंग की लाइन या धारियां बनी हुई होती हैं. आखिर इसका कारण क्या है. अपने इस आर्टिकल के जरिए हम आपको इसकी जानकारी देंगे-

क्यों बनी होती हैं लाल धारियां-

आजकल लोगों को एक बुरी आदत हो गई है. कोई भी दिक्कत हो झट से याद की हुई दवाइयां या कोई एंटीबायोटिक अपनी मर्जी से लेकर खा लेते हैं. उन्हें लगता है कि डॉक्टर भी तो यही लिखता. लेकिन कभी-कभी उन्हें इसका बहुत बुरा नतीजा भुगतना पड़ जाता है और वो दवा जो डॉक्टर के प्रिस्क्रिप्शन के बिना खाई होती है वह नुकसान कर जाती है.

What does red line means on packets of medicine red strip on medicine ashas  - दवाइयों के पैकेट पर क्यों बनी होती है लाल पट्टी? एक्सपायरी डेट की तरह होता  है अहम

इससे साफ है कि बिना डॉक्टर की सलाह के दवा लेना सेहत के लिए घातक हो सकता है. कुछ दवाइयों तो बकायदा इसके लिए अपनी पैकेट पर इसके लिए खास चिन्ह बनाती हैं. दवाइयों की पैकेट पर बनी लाल धारियां भी इसीलिए बनाई जाती हैं. जिसका मतलब होता है कि आप बिना डॉक्टर की सलाह के उस दवा को न खाएं.

अपने डॉक्टर खुद न बनें-

यह बहुत देखने में आ रहा है कि लोग गूगल के जरिए सर्च करके या किसी की सलाह पर कोई भी दवाई ले लेते हैं. इससे उनकी सेहत पर बहुत बुरा असर पड़ सकता है. जरूरी है कि इस तरह से खुद का इलाज न करके डॉक्टर की सलाह लें. क्योंकि दवाईयों से जुड़े तमाम ऐसे पक्ष होते हैं जो डॉक्टर ही समझता है.नोट – प्रत्येक फोटो प्रतीकात्मक है (फोटो स्रोत: गूगल) [ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. EkBharat News अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Rutvisha patel

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *