क्या हावड़ा ब्रिज कमजोर हो गया है ? कब तक टिकेगा हावड़ा ब्रिज ? | देखिए video

क्या हावड़ा ब्रिज कमजोर हो गया है ? कब तक टिकेगा हावड़ा ब्रिज ? | देखिए video

पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता का मशहूर हावड़ा ब्र‍िज (Howrah Bridge) गुटखा और पाना मसाला खाने के चलते कमजोर हो रहा है। सुनने में यह बात थोड़ी अटपटी सी लगती है लेक‍िन है सौ टका सही। दरअसल गुटखे की पीक विशालकाय हावड़ा ब्रिज की सहेत पर भारी पड़ती जा रही है। आलम यह है क‍ि तंबाकू थूकने की वजह से ब्रिज के पायों की मोटाई कम हो रही है। IAS अवनीश शरण ने कोलकाता के हावड़ा ब्रिज की एक तस्‍वीर डाली है, इसमें दिख रहा है कि किस तरह से तंबाकू थूकने की वजह से ब्रिज कमजोर हो रहा है। उधर, IAS के दावे के उलट कोलकाता पोर्ट ट्रस्‍ट की ओर से इसे बचाने के लिए स्टील के पायों को नीचे फाइबर ग्लास से ढंक दिया गया। ताक‍ि पीके चलते पायों में जंग ना लगे और वो खराब भी ना हो। ऐसे में देखना होगा क‍ि उनकी ये कोश‍िश क‍ितनी कारगर होती है।

दरअसल गुटखा ब्रांड एंडोर्समेंट पर विवाद के बीच आईएएस अधिकारी अवनीश शरण ने शुक्रवार को ट्वीट करके बताया क‍ि कोलकाता पोर्ट ट्रस्ट ने कहा है कि गुटखा की पीक के चलते मशहूर 70 साल पुराने पुल की सेहत खराब हो रही है। एक तरह से गुटखा-चबाने वाले हावड़ा ब्रिज पर हमला कर रहे हैं। उन्होंने गुटखा से भरे थूक से सने ब्रिज के खंभे की एक तस्वीर भी शेयर की और अभिनेता अजय देवगन, शाहरुख खान, अक्षय कुमार और अमिताभ बच्चन को टैग किया। इसके बाद से हावड़ा ब्रिज की सुरक्षा और सफाई अभ‍ियान को लेकर सोशल मीड‍िया पर बहस तेज हो गई है।

pjimage - 2022-04-22T164023.184

साल 2011 में आई रिपोर्ट में थी हावड़ा ब्रिज के कमजोर होने की बात

इससे पहले साल 2011 में हावड़ा ब्रिज पर एक रिपोर्ट आई थी, जिसमें यह बात सामने आई थी कि पान-मसाला और गुटखा थूकने के चलते ब्रिज के पायों की मोटाई कम हो रही है। इसके बाद कोलकाता पोर्ट ट्रस्‍ट ने इसे बचाने की कवायद शुरू की थी। ट्रस्‍ट की ओर से इस बचाने के लिए स्टील के पायों को नीचे फाइबर ग्लास से ढंक दिया गया था। हावड़ा ब्रिज पर एक अनुमान के मुताब‍िक, हर रोज 1.2 लाख छोटे-बड़े वाहन और 5 लाख पैदल यात्री 70 साल पुराने इस पुल का इस्तेमाल करते हैं। इस दौरान पुल के पायों के निचले हिस्सों को सार्वजनिक पीकदान की तरह इस्तेमाल किए जाने के कारण बड़ा नुकसान हुआ है।

कोलकाता पोर्ट ट्रस्ट पर है ब्र‍िज के रख-रखाव का ज‍िम्‍मा

कोलकाता पोर्ट ट्रस्ट के ऊपर 70 साल पुराने पुल के रख-रखाव का ज‍िम्‍मा है। गुटखे की पीक के कारण पुल के खंभों के तलों को हुए नुकसान के चलते उन्हें अब फाइबर ग्लास से ढक दिया गया है। एक र‍िपोर्ट के अनुसार, ट्रस्‍ट की माने तो पहले ही पुल के खंभों को काफी नुकसान हो चुका है। पीक थूकने के कारण हैंगरों की रक्षा करने वाले स्टील हुड की मोटाई पिछले 4 साल में अपने मूल आकार से 50 प्रतिशत कम हो गई है। ट्रस्‍ट के अनुसार, आधे चबाए गए पान के पत्ते, सुपारी और चूने में ऐसे रासायन‍िक पदार्थ मिले होते हैं, जो मजबूत स्‍टील तक को भी नुकसान पहुंचाते हैं।

हावड़ा ब्र‍िज का इत‍िहास

pjimage - 2022-04-22T173544.301

हावड़ा ब्रिज एक कंटीलीवर पुल है, जो हुगली नदी के ऊपर सस्पेंडेड स्पैन के साथ है। साल 1943 में चालू हुए इस पुल का नाम ‘न्यू हावड़ा ब्रिज’ था क्योंकि हावड़ा और कोलकाता दो शहरों को जोड़ने वाले उसी स्थान पर पीपों के पुल के स्थान पर बना था। 14 जून 1965 को इसे रवींद्र सेतु का नया नाम दिया गया, जो कि बंगाल के महान कवि रवींद्र नाथ टैगोर के नाम पर रखा गया था। हालांक‍ि इसे अभी तक हावड़ा ब्रिज के नाम से ही जाना जाता है।

दुनिया में अपनी तरह का छठा सबसे लंबा पुल है ये

हुगली नदी पर बना यह पुल कोलकाता और पश्चिम बंगाल का एक सुप्रसिद्ध प्रतीक है। बंगाल की खाड़ी से उठने वाले तूफान को झेलते हुए यह रोजाना लगभग एक लाख वाहनों और डेढ़ लाख से अधिक पैदल यात्रियों का वहन कर रहा है जिससे यह दुनिया के सबसे व्यस्ततम कंटीलीवर पुल बन गया है। अपने निर्माण के समय तीसरा सबसे लंबा कंटीलीवर पुल हावड़ा ब्रिज आज दुनिया में अपनी तरह का छठा सबसे लंबा पुल है। नोट – प्रत्येक फोटो प्रतीकात्मक है (फोटो स्रोत: गूगल) [ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. EkBharat News अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Rutvisha patel

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *