क्या होते है Steroids, कितना सही है Steroids लेना? देखिए video

क्या होते है Steroids, कितना सही है Steroids लेना? देखिए video

दुनियाभर में कोरोना वायरस का प्रकोप बढता दिखाई दे रहा है। मरीजों की बढती संख्या के कारण अस्पतालों में ऑक्सिजन बेड और दवाओं की कमी पड रही है। समय रहते इलाज न होने से मरीजों की मौत हो रही है। इसलिए डॉक्टर कोरोना मरीजों को सेल्फ आइसोलेशन में अपना इलाज करने की सलाह दे रहे है।

लेकिन कुछ मरीज जल्दी ठीक होने के लिए स्टेरॉयड दवाईंयों का इस्तेमाल करते दिखाई देते है। कोरोना संक्रमित मरीजों को स्टेरॉयड द्वारा इलाज किया जाता है। लेकिन स्टेरॉयड देने में जो सावधानी रखनी चाहिए उसका ध्यान नहीं दिया जाता है। नतीजा ये होता है कि मरीज ठीक होने की बजाय दूसरी बीमारी से ग्रसित हो जाता है।

स्टेरॉयड से होता है नुकसान

 steroids side effects in hindi, steroids ke nukasaan,स्टेरॉइड्स साइड इफ़ेक्ट,Steroid meaning in Hindi,स्टेरॉइड्स साइड इफ़ेक्ट,स्टेरॉइड्स के नुकसान,,Steroids meaning in Hindi

पहले जैसा ही हो रहा है। यह समझना होगा कि ये जान बचाते हैं मगर साइडइफेक्ट भी देते हैं। स्टेरॉयड शरीर में कुदरती भी बनते हैं। जब भी संकट होता है ये ब्लड में बढ़ जाते हैं और लड़ने में मदद करते हैं क्योंकि हमें उस वक्त ज्यादा एनर्जी चाहिए होती है। ऐसे में लड़ने के लिए यह शरीर को जरूरी मजबूती देते हैं मगर बदले में इम्यून रेस्पॉन्स को कम कर सकते हैं जो खतरनाक है।

यही वजह है कि संक्रमण के पहले 5-7 दिन इन्हें नहीं लेना चाहिए क्योंकि इस वक्त शरीर विषाणू से लड़ रहा होता है, स्टेरॉयड इम्यून सिस्टम को कमजोर कर सकते हैं। संक्रमण के दूसरे चरण में जब शरीर में इन्फ्लेमेशन शुरू हो चुका होता है, उस वक्त बढ़े इम्यून रेस्पॉन्स को कम करने के लिए स्टेरॉयड दिए जा सकते हैं।

स्टेरॉयड के अधिक मात्रा के डोज या इसे लंबे समय तक जारी रखने से शरीर मे कई दुसरे इंफेक्शन का खतरा भी बढ जाता है। ये म्यूकर, दवा प्रतिरोधी फंगल इंफेक्शन और दवा प्रतिरोधी बैक्टीरिया का खतरा भी बढाते हैं। स्टेरॉयड के बहुत ज्यादा इस्तेमाल से मांसपेशियां कमजोर पड सकती हैं और ब्लड शुगर अनियंत्रित हो सकता है। डायबिटीज के मरीजों के लिए ये बहद खतरनाक साबित हो सकता है। मरीजों को कई अन्य प्रकार की दिक्कतें भी झेलनी पड सकती है।

शरीर में क्या करता है स्टेरॉयड?

स्टेरॉयड इन्फ्लेमेशन (सूजन) को कंट्रोल करने का काम करता है। लेकिन, यह खासकर डायबीटिज मरीजों में शुगर लेवल को बढा देता है। ऐसे में समय पर यह कंट्रोल नहीं किया गया तो शरीर की इम्युनिटी पर असर पडता है, जिससे म्युकोर्मिकोसिस यानी ब्लैक फंगस का खतरा बढ जाता है।

Coronaके इलाज में Steroid का इस्तेमाल कितना सही? जानिए Expert की राय -  Should steroids be used in corona treatment? Expert replies - Coronavirus  AajTak

  • जिन मरीजों में शुगर अनियंत्रित है और कोरोना के इलाज के दौरान उन्होंने स्टेरॉयड लिया है तो ऐसे लोगों में ब्लैक फंगस का खतरा बढ जाता है।
  • जो भी मरीज कोरोना संक्रमण के दौरान ऑक्सीजन पर रहे हैं, इसके अलावा जिन मरीजों को सांस से जुडी बीमारी रही है उनमें ये समस्या ज्यादा देखने को मिल रही है।
  • कोरोना के दौरान स्टेरॉयड की हाई डोज लेने वाले लोगों को भी ब्लैक फंगस का खतरा रहता है।

कोरोना के सभी मरीजों को स्टेरॉयड की जरूरत होती है?

कोरोना के सभी मरीजों को स्टेरॉयड की जरूरत नही पडती। ज्यादातर मरीज बिना स्टेरॉयड लिए ही ठिक हो रहे है। जिन कोविद मरीजों की हल्के लक्षमं है और शरीर में ऑक्सिजन की मात्रा नियंत्रण में है उन्हे स्टेरॉयड की जरूरत नही होती। इसलिए बिना किसी डॉक्टरी सलाह के कोरोना के मरीजों को स्टेरॉयड दवाओं का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

स्टेरॉयड्स दवा का क्या-क्या साइड इफेक्ट्स हो सकता है?

स्टेरॉयड के ज्यादा इस्तेमाल से हाई ब्लड शुगर, ब्लड प्रेशर, नींद नहीं आना, मानसिक बिमारी, भूख लगना, वजन बढना और सेकेंडरी इन्फ्लेमेशन हो सकते है। दो सप्ताह से अधिक समय तक स्टेरॉयड का यूज करने पर ग्लुकोमा, कैटारैक्ट, फ्लूइड रिटेंशन, हाईपरटेंशन और ऑस्टियोपोरोसिस हो सकता है। नोट – प्रत्येक फोटो प्रतीकात्मक है (फोटो स्रोत: गूगल) [ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. EkBharat News अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Rutvisha patel

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *