India में कैसे Fail हो गई Hanging Train? देखिए video

India में कैसे Fail हो गई Hanging Train? देखिए video

पैसेंजर ट्रेन के बारे में आपने सुना होगा, सुपर फास्ट ट्रेन के बारे में भी सुना होगा लेकिन हैंगिंग ट्रेन के बारे में कभी सुना है क्या? तो चलिए आज हम आपको हैंगिंग ट्रेन के बारे में बताते हैं। ये ट्रेन करीब 13.3 किलोमीटर की दूरी में चलती है। इस दौरान ट्रेन 20 स्टेशन पर रुकती है। इसे दुनिया की सबसे पुरानी मोनो रेल भी कहते हैं।

hanging train in Germany

रिपोर्ट्स के मुताबिक,जर्मनी के वुप्पर्टल में लटककर ट्रेन चलती है। यह ट्रेन साल 1901 में शुरू की गई थी। असल में यह शहर पहले ही विकसित हो गया था। इस वजह से यहां ट्रेनें चलाने के लिए जगह ही नहीं बची थी। इसी दौरान यह आइडिया आया कि हैंगिंग ट्रेन चलाई जाए।

hanging train in Germany

हैंगिंग ट्रेन पहली नजर में भले ही यह सच्ची न लगे, लेकिन इस ट्रेन सेवा से रोज करीब 82 हजार लोग ट्रैवल करते हैं।

आपको बता दें कि एक हैंगिंग ट्रेन साल 1999 में वुप्पर नदी में गिर गई थी। इस दौरान 5 लोग मारे गए थे और करीब 50 घायल भी हुए थे। हालांकि, इसके अलावा बड़ी दुर्घटना नहीं हुई। बिजली से चलने वाली यह ट्रेन करीब 39 फीट की ऊंचाई पर चलती है।

ट्रेन

अब जो भी हो, इस हैंगिंग ट्रेन में सफर करना स्टंट करने के बराबर है। नोट – प्रत्येक फोटो प्रतीकात्मक है (फोटो स्रोत: गूगल) [ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. EkBharat News अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Rutvisha patel

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *