ऐसा कौन सा जगह है जहां रेगिस्तान और समुद्र दोनों एक दुसरे से मिलता है? देखिए video

ऐसा कौन सा जगह है जहां रेगिस्तान और समुद्र दोनों एक दुसरे से मिलता है? देखिए video

यह दुनिया जितनी बड़ी औऱ खूबसूरत है। उससे भी कही ज़्यादा यह रहस्य से भरा हुआ है। औऱ साथ ही साथ बहुत रोचक भी है। आपने अपनी ज़िन्दगी में कभी ना कभी इस दुनिया से जुड़े कई ऐसे अमेजिंग फैक्ट्स के बारे में सुना होगा, जिसे सुनने के बाद आप दंग रह गए होंगे। आज के इस पोस्ट में हम आपको ऐसे ही कुछ अमेजिंग फैक्ट के बारे में बताने जा रहे हैं। जिसको जानने के बाद आप बहुत ही हैरान हो जाएंगे।

जहां सबसे ज्यादा पीने लायक पानी है। वह देश ब्राज़ील है। ब्राजील में नवीकरणीय जल संसाधनों की उच्चतम मात्रा है, जो कुल 8,233 घन किलोमीटर है।

आपको जानकर काफी हैरानी होगी की भारत के महाराष्ट्र राज्य का राजकीय पक्षी हरियल एक ऐसा पक्षी है। जिसने अपना पैर धरती पर कभी नहीं रखा है। इन पक्षियों को ऊंचे-ऊंचे पेड़ वाले जंगल पसंद होते हैं। यह अक्सर अपना घोंसला पीपल और बरगद के पेड़ पर बनाते हैं। ज़्यादातर हरियल पक्षी झुंड में ही पाये जाते हैं।

आपको जानकर हैरानी होगी की दुनिया में एक ऐसी जगह है। जहा समुद्र और रेगिस्तान एक साथ मिलते हैं। यह जगह नामीबिया का वेस्ट कोस्ट है। आपको बता दे कि यह दुनिया का सबसे पुराना रेगिस्तान है। जो करीब साढ़े 5 करोड़ साल से भी ज्यादा पुराना है। इसकी खास बात तो यह है कि यहां दिखने वाले रेत के टीले विश्व में सबसे बड़े हैं।

आपकी जानकारी के लिए बता दे भारत के मेघालय में ‘उमंगोट नदी’ है। जो भारत की सबसे साफ नदी कहलाती है। यह नदी मावल्यान्नांग गांव के पास है। साथ ही यह गांव एशिया का सबसे साफ गांव है। इस गांव में करीब 300 घर हैं। वहा के सभी लोग मिलकर इस नदी की साफ-सफाई करते हैं। साथ ही इस नदी में गंदगी करने पर 5000 रुपये तक का जुर्माना लगता है।

जब भी किसी से यह सवाल पुछा जाता है की नोट किस चीज़ से बना होता है तो अधिकतर लोग इसका जवाब लोग कागज बताते है। लेकिन आपको यह जानकर काफी हैरानी होगी कि नोट कागज से नहीं बल्कि कपास के बनते हैं। इसके पीछे एक कारण है। दरअसल, कपास कागज की तुलना में ज्यादा मजबूत होते हैं। इसलिए वो जल्दी नहीं फटते है।औऱ लम्बे समय तक एक हाथ से दूसरे हाथ में जाता रहता है। नोट – प्रत्येक फोटो प्रतीकात्मक है (फोटो स्रोत: गूगल) [ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. EkBharat News अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Rutvisha patel

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *