दुनिया की सबसे महंगी गलतियाँ | इतिहास की टॉप-10 सबसे महंगी गलतियां l देखिए video

दुनिया की सबसे महंगी गलतियाँ | इतिहास की टॉप-10 सबसे महंगी गलतियां l देखिए video

हम सभी जानते हैं कि इस दुनिया में कोई भी परफेक्ट नहीं होता और यहां हर किसी से गलतियां होती हैं । इन गलतियों से हमें नुकसान तो जरूर होता है लेकिन नुकसान इतना ज्यादा बड़ा नहीं होता कि हम हमेशा उसके बारे में सोचते रहें । पर कभी-कभी कुछ लोगों द्वारा ऐसी गलतियां हो जाती हैं जिनसे उन्हें बहुत ही ज्यादा नुकसान उठाना पड़ता है । तो चलिए हम आपको बताते हैं दुनिया की 10 ऐसी ही में ही गलतियों के बारे में जिनके बारे में जानकर आप शॉक्ड रह जाएंगे ।

10 – आप सभी ने डीसी की जस्टिस लीग मूवी सुपरमैन 2 जरूर देखी होगी और उसमें सुपर मैन के चेहरे को भी जरूर देखा होगा। उस मूवी में हैनरी यानि कि सुपरमैन की मूंछों के पास कुछ ब्लर ब्लर सा नजर आ रहा था । इसके पीछे एक कहानी है । दरअसल इस मूवी की शूटिंग हो जाने के बाद मोनोक्रोम ने कुछ सीन्स को रिप्लेस करने और कुछ सीन्स रिपोर्ट करने के बारे में सोचा । लेकिन हैनरी केवल उस समय मिशन इम्पॉसिबल की शूटिंग में व्यस्त थे और जिसके लिए उन्होंने अपनी मूंछें भी बढ़ा रखी थीं । जिसके बाद पैरामाउंट ने केबल को मुछे शेव करने के लिए मना कर दिया । फिर वॉर्नर रॉस ने स्पेशल इफेक्ट्स की मदद से मूंछो को कुछ सीन्स में हटाया, जिससे सुपरमैन के चेहरे पर ब्लर आ गया। दोस्तों यह गलती उन्हें काफी महंगी पड़ी क्योंकि उन्हें इसके लिए 190 करोड़ रुपए खर्च करने पड़े । और बता दें कि यह मूवी डीसी की अब तक की सबसे कम कमाई करने वाली मूवी थी ।

9 – हम सभी जब भी कोई नई मोटरबाइक या कार खरीदने जाते हैं तब हम सबसे पहले इस बात का ध्यान जरूर रखते हैं कि वह कार या बाइक हमारे गैराज फिट हो जाए । लेकिन शायद फ्रांस की ऐसी एफ नामक एक रेल कंपनी ने इस बात का ध्यान नहीं रखा और साल 2014 में करीब 1 लाख 14 हजार करोड़ रुपये की टीजी वी हाई स्पीड ट्रेन खरीद ली । आपको हैरानी होगी कि इन ट्रेनों को खरीदने के बाद जैसे ही कंपनी ने नए ट्रैक पर उतारा तब ये ज्यादा चौड़े होने के कारण स्टेशन के अंदर घुस ही नहीं पा रही थी । बाद में कंपनी ने इस बात पर गौर किया कि उनसे बहुत ही बड़ी चूक हो गई है जिसके बाद इन ट्रेनों को कुछ दिनों के लिए बंद कर दिया गया और स्टेशन को ठीक कराया गया । टेक्नॉलजी के हिसाब से यह बहुत बड़ी गलती थी जिसका खामियाजा कंपनी को 419 करोड़ रुपये भरकर भुगतना पड़ा ।

8 – सोचिए आप किसी ऐसी बिल्डिंग के नीचे खड़े हों जिसके सामने एक कार भी पिघल जाती हो तो आपको कैसा महसूस होगा । ऐसी एक बिल्डिंग है लंदन में जो कि इंजीनियर्स और कंस्ट्रक्शन कंपनी के एक बहुत ही बड़ी और महंगी गलती का नतीजा है । इस बिल्डिंग में कुल 32 फ्लोर मौजूद हैं । साथ ही ये बहुत ज्यादा ऊंची है लेकिन इस बिल्डिंग में लगी हुए ग्लास (शीशे) बहुत ही ज्यादा रिफ्लेक्टिव है । इंजीनियर द्वारा इसे इस तरह बनाया गया है जिस वजह से धूप इन ग्लास में पड़कर सामने की सड़क पर बहुत ही ज्यादा तेजी से रिफ्लेक्ट करती है और सामने रखी कोई भी चीज को आसानी से पिघला देती है या फिर जला देती है । हालांकि इंजीनियरों द्वारा बिल्डिंग के ऊपर सनसेट लगाए गए हैं लेकिन इतना काफी नहीं है । इस बिल्डिंग बनाने की कुल लागत करीब 1675 करोड़ रुपए है लेकिन इसकी वजह से जल्दी चीजें और पिघलती कारें इसे इंजीनियर्स द्वारा की गई बहुत ही में ही गलती साबित करते हैं ।

7 – लोगों से अक्सर बहुत सी ऐसी चीजें गुम हो जाती हैं जो उनके लिए बहुत ज्यादा प्रेशियस (महंगी) होती हैं लेकिन कभी कभी कुछ लोगों द्वारा कुछ ऐसे चीजें गुम हो जाती हैं जिससे उन्हें बहुत ही ज्यादा घाटा होता है । दुनिया में ऐसे बहुत से लोग हैं जिन्होंने डिजिटल करेंसी बिटकॉयन खरीदे और बाद में उन्हें बेचकर बहुत ही ज्यादा अमीर बन गए । पर इसके अलावा इस दुनिया में ऐसे भी बहुत लोग मौजूद हैं जिन्होंने बिटकॉयन तो खरीदे लेकिन बाद में उन्हें घुमा दिया । ऐसे एक व्यक्ति हैं यूके के आईटी कर्मचारी जेम्स ओवेन्स जिन्होंने 2009 में अपने लैपटॉप की मदद से 7500 बिटकॉइन खरीदे थे । लेकिन इन्हें खरीदने के बाद उन्होंने अपना लैपटॉप बेच दिया पर उसकी हर्ट्स अपने पास रख ली क्योंकि वो जानते थे कि उसमें मौजूद बिटकॉइन आगे चलकर बहुत ही ज्यादा कीमती होंगे । पर साल 2013 में उन्होंने गलती से अपनी हर्ट्स कचरे के ढेर में फेंक दी जिसे ढूंढना असंभव था । उसके खो जाने के बाद जब उन्होंने अपने इस बिटकॉइन की कीमत के बारे में पता लगाया तो उनके होश उड़ गए क्योंकि उन्होंने अपनी एक गलती की वजह से करीब 968 करोड़ रुपए के बिटकॉइन गंवा दिए जो कि उनके द्वारा की गई एक बहुत ही महंगी गलती साबित हुई ।

6 – यह सोचना पागलपन होगा कि मौसम की हल्की सी नमी की कीमत भी एक लाख 14 हजार करोड़ रुपए हो सकती है लेकिन यूएस स्पोर्ट्स के लिए ये एक सच्चाई है क्योंकि उनका बी टू बॉम्बर 2008 में इसी वजह से मिट्टी में मिल गया था । ये बॉम्बर 398 बॉल्स गॉर्डन का हिस्सा था और एयरफोर्स में 400 नौवा बॉम्बिंग था जबकि बॉम्बर चार महीने के अपने लंबे डिप्लॉयमेंट के बाद तीन अन्य बॉम्बर्स के साथ एंडरसन के एयर बेस से उड़ान भर रहा था । तब इसके उड़ान भरते समय कुछ सही नहीं था लेकिन थोड़ा उंचा उड़ते ही इसमें कुछ गड़बड़ी आ गई और उसमें सवार दोनों क्रू मेंबर्स इसमें से बाहर कूद गए । इसके बाद ये बॉम्बर जमीन पर गिर गया और पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गया जिसकी वजह मौसम की नमी को बताया गया क्योंकि इस नमी की वजह से सही सिग्नल कंप्यूटर तक नहीं पहुँच रहे थे और इसी वजह से ये सही उड़ान ना भर के ध्वस्त हो गया और एक लाख 14 हजार करोड़ रुपये मिट्टी में मिल गए ।

5 – हम सभी ने टाइटैनिक मूवी तो जरूर देखी होगी जोकि एक बहुत ही उम्दा मूवी है और आपको ये भी ज़रूर मालूम होगा कि इस मूवी में डूबने वाली शिप असल में भी डूबी थी । दूसरे इस मूवी को बनाने में करोड़ों खर्च हुए थे । तो सोचिए असली में इसके डूबने पर कितना नुकसान हुआ होगा । बता दें यह नुकसान 57 करोड़ रुपए था जो कि उस समय के हिसाब से एक बहुत ही बड़ी कीमत थी । जब टाइटैनिक जहाज को बनाया गया तब कहा गया कि ये कभी न डूबने वाला जहाज है लेकिन हम सभी जानते हैं कि इसका क्या हश्र हुआ और ये कैसे डूबा । आपको जानकर हैरानी होगी कि टाइटैनिक जहाज के अटलांटिक में जाने के दौरान इसके कर्मचारी और अधिकारियों द्वारा बहुत सी गलतियां हुई थी । अगर इसमें एक अच्छी दूरबीन लगाई जाती तो शायद वो बर्फ का टुकड़ा इसमें बैठे कर्मचारी को दिख जाता और इससे उसे टकराने से बचा लिया जाता । लेकिन ऐसा नहीं हुआ और आखिरकार ये उस आइसबर्ग से टकरा गया जिससे इसमें छेद हो गया । दूसरी इसमें लाइफ बोट्स की भी कमी थी जिसकी वजह 1500 लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी । ये गलती अब तक की सबसे बड़ी गलती है जिसे नजरअंदाज नहीं किया जा सकता ।

4 – गलती सबसे होती हैं लेकिन जो गलती एलईटी या एयरलाइन्स द्वारा की गई उसे नजरअंदाज नहीं किया जा सकता क्योंकि ये गलती उन पर बहुत ज़्यादा महंगी पड़ गई । दरअसल हुआ कुछ यूं कि अल इटालिया एयरलाइन्स ने अपने पोर्टल पर टिकट बुकिंग शुरू की लेकिन गलती से तीन लाख रुपये कीमत वाले टिकट को तीन हजार रूपए का दर्शा दिया तो सोचा तक एयरलाइन्स इस कीमत को ठीक करवाता । दो हजार लोगों ने इस टिकट को तीन हजार रुपये में खरीद लिया । इसके बाद एयरलाइन्स ने सारे टिकट कैंसल कर दिए । पर बाद में यात्रियों के विरोध के बाद उन्होंने इसी कीमत पर लोगों को सफर कराया और उन्हें उनके निश्चित स्थान पर पहुंचाया । इस गलती की वजह से एक इटालियन एयरलाइन्स को करीब 53 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ जो कि उन्हें बहुत ही महंगा पड़ा ।

3 – इस दुनिया में बहुत से लोगों का सपना होता है कि वो लॉटरी जीतें और अमीर बन जाएं । हालांकि सबका सपना सच तो नहीं होता लेकिन कभी कभी किसी किसी का सपना सच भी हो जाता है । इंग्लैण्ड की महिला का भी ऐसा ही एक सपना सच हुआ जब उसने टीवी पर आ रहे लॉटरी टिकट के नंबर को अपने टिकट के नंबर से मिलाया । दो अक्टूबर 2010 में यूरोप में करीब 1104 करोड़ रुपए की लॉटरी का एलान किया गया । चूंकि ब्रिटिश लॉटरी इतिहास का अब तक का सबसे बड़ा इनाम था इस लॉटरी के खुलने का इन्तजार बहुत से लोग कर रहे थे और जब 8 अक्टूबर 2010 को इस लॉटरी के नंबर को एलान हुआ तो लगभग 1000 लोगों ने क्लेम किया कि उनके नंबर आए कोई नंबर से मैच करते हैं । 203 लोगों में से एक महिला ऐसी भी थी जिसने क्लेम तो किया कि उसके नंबर मैच कर गए लेकिन उसके पास टिकट नहीं था क्योंकि उसके पति ने टिकट गलती से कहीं फेंक दिया था । इसके बाद उन दोनों पति पत्नी की बहुत कहासुनी हुई । अंत में पत्नी ने पति को माफ कर दिया लेकिन इस एक गलती की वजह से वह करोडो रूपये के मालिक बनने से चूक गए ।

2 – बोच्ड ब्रिज लंदन का एक जाना माना पुल है जो कि लंदन की टेम्स नदी के ऊपर बना हुआ है और बैकसाइड और लंडन सिटी को आपस में जोड़ता है । दोनों इस पुल का निर्माण 1998 में शुरू हुआ था जो कि साल 2000 तक पूरा हो गया । इसके बाद इसे आम लोगों के लिए चालू कर दिया गया । इस पुल के निर्माण की कुल लागत करीब 171 करोड़ रुपये थी और इसे लंदन की एक बहुत ही जानी मानी कंस्ट्रक्शन कंपनी द्वारा बनाया गया था । लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी की इसे बनाते समय इंजीनियर्स से एक बहुत बड़ी गड़बड़ हो गई क्योंकि जैसे ये पुल आम लोगों के लिए खोला गया इस पर बहुत से लोग आने लगे और यह पुल हिलने गया। इसे बनाने वाले इंजीनियर भी भाग गए, जिसके बाद इसकी फिर से मरम्मत की गई । जिसमे 45 करोड़ की लागत आई ।

1 – दुनिया में बहुत से लोग टाइपिंग में गलतियाँ करते हैं लेकिन हम जिस गलती के बारे में बात कर रहे हैं वह काफी महंगी है। ऐसी ही एक गलती 2006 में जापान के एक शेयर ब्रोकर से हुई । क्योंकि उसने मीजुहो कम्पनी में काम करते हुए जे.कॉम कम्पनी के शेयर बेचे। इसके एक शेयर की कीमत 6 लाख 10 हजार येन थी जोकि जापान की करंसी है । आपको जानकर हैरानी होगी कि उस ब्रोकर ने अपनी टाइपिंग मिस्टेक की वजह से अपने 6 लाख 10 हजार शेयर 1 येन में बेच दिए इसकी वजह से उस कम्पनी को करीब 1400 करोड़ का नुकसान हुआ । नोट – प्रत्येक फोटो प्रतीकात्मक है (फोटो स्रोत: गूगल) [ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. EkBharat News अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Rutvisha patel

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *