तस्वीरों में दुनिया का पहला स्पेस होटल, एक साथ 28 लोग अंतरिक्ष में रह सकेंगे, सुविधाएं जानकर चौंक जाएंगे

तस्वीरों में दुनिया का पहला स्पेस होटल, एक साथ 28 लोग अंतरिक्ष में रह सकेंगे, सुविधाएं जानकर चौंक जाएंगे

3 साल बाद आम लोग भी अंतरिक्ष में समय बिता सकेंगे. यहां दुनिया का पहला स्‍पेस होटल (World first Space Hotel) बनाया जाएगा. 2025 में लोग इसमें ठहर सकेंगे और अंतरिक्ष के नजारे देख सकेंगे. इस होटल का नाम होगा पायनियर स्‍टेशन (Pioneer station). इसे अमेरिकी स्‍पेस कंस्‍ट्रक्‍शन कंपनी ऑर्बिटल असेंबली कॉर्पोरेशन (Orbital Assembly Corporation) तैयार करेगी. यह होटल एक घूमते हुए पहिए के रूप में होगा जो पृथ्‍वी के चारों तरफ चक्‍कर लगाते हुए नजर आएगा. यह काफी लग्‍जरी होटल होगा. जानिए, यहां क्‍या-क्‍या सुविधाएं मिलेंगी.

3 साल बाद आम लोग भी अंतरिक्ष में समय बिता सकेंगे. यहां दुनिया का पहला स्‍पेस होटल (World first Space Hotel) बनाया जाएगा. 2025 में लोग इसमें ठहर सकेंगे और अंतरिक्ष के नजारे देख सकेंगे. इस होटल का नाम होगा पायनियर स्‍टेशन (Pioneer station). इसे अमेरिकी स्‍पेस कंस्‍ट्रक्‍शन कंपनी ऑर्बिटल असेंबली कॉर्पोरेशन (Orbital Assembly Corporation) तैयार करेगी. यह होटल एक घूमते हुए पहिए के रूप में होगा जो पृथ्‍वी के चारों तरफ चक्‍कर लगाते हुए नजर आएगा. यह काफी लग्‍जरी होटल होगा. जानिए, यहां क्‍या-क्‍या सुविधाएं मिलेंगी.

अंतरिक्ष में इस अलग तरह के होटल को बनाने प्रस्‍ताव 2019 में दिया गया था. इसे बनाने वाली कंपनी का कहना है, स्‍पेस होटल में लग्‍जरी सुविधाएं मिलेंगी. यहां सैलानियों के लिए एक आर्टिफिशियल ग्रेविटी होगी. इसकी मदद से वो नहाना, खाना, बैठना, उठना जैसे तमाम तरह के काम सामान्‍य तरीके से कर पाएंगे. इस तरह की एंटी-ग्रैविटी तकनीक अभी तक स्‍पेस स्‍टेशन में भी नहीं है.

अंतरिक्ष में इस अलग तरह के होटल को बनाने प्रस्‍ताव 2019 में दिया गया था. इसे बनाने वाली कंपनी का कहना है, स्‍पेस होटल में लग्‍जरी सुविधाएं मिलेंगी. यहां सैलानियों के लिए एक आर्टिफिशियल ग्रेविटी होगी. इसकी मदद से वो नहाना, खाना, बैठना, उठना जैसे तमाम तरह के काम सामान्‍य तरीके से कर पाएंगे. इस तरह की एंटी-ग्रैविटी  तकनीक अभी तक स्‍पेस स्‍टेशन में भी नहीं है.

कंपनी के सीओओ टिम अल्‍टोरे के मुताबिक, दोनों ही तरह के स्‍पेस होटल में रहना किसी साइंसफ‍िक्‍शन के सपने से कम नहीं होगा. यहां कई तरह सुविधाएं मिलेंगी. जैसे- बास्केटबॉल कोर्ट, आलीशान कमरे, रेस्त्रां और बार. होटल के हर हिस्‍से का इंटीरियर काफी लग्‍जीरियस होगा. टिम कहते हैं, हमारी कोशिश होगी कि इसे किफायती बनाया जा सके. हालांकि यहां पहुंचने, रहने और वापस धरती पर आने में कितना खर्च होगा, कंपनी ने इस पर कोई जानकारी नहीं दी है.

कंपनी के सीओओ टिम अल्‍टोरे के मुताबिक, दोनों ही तरह के स्‍पेस होटल में रहना किसी साइंसफ‍िक्‍शन के सपने से कम नहीं होगा. यहां कई तरह सुविधाएं मिलेंगी. जैसे- बास्केटबॉल कोर्ट, आलीशान कमरे, रेस्त्रां और बार. होटल के हर हिस्‍से का इंटीरियर काफी लग्‍जीरियस होगा. टिम कहते हैं, हमारी कोशिश होगी कि इसे किफायती बनाया जा सके. हालांकि यहां पहुंचने, रहने और वापस धरती पर आने में कितना खर्च होगा, कंपनी ने इस पर कोई जानकारी नहीं दी है.

कंपनी का कहना है, 2025 में खुलने वाले इस होटल में 28 लोग एक साथ रह सकेंगे. इसके अलावा एक और होटल को बनाया जाएगा. इसका नाम होगा ‘वोएजर स्टेशन’. इसे 2027 में आम लोगों के लिए खोला जाएगा. खास बात यह है कि इसमें 400 सैलानी एक साथ दो हफ्तों के लिए रह सकेंगे. यह भी काफी लग्‍जरी सुविधाओं से लैस होगा.

कंपनी का लक्ष्‍य अंतरिक्ष में एक बिजनेस पार्क विकसित करना है, जहां लोग रह भी सकें और ऑफ‍िस वर्क भी कर सकें. इसके साथ पर्यटक भी यहां पहुंच सकें. इसे ध्‍यान में रखते हुए कंपनी फिलहाल स्‍पेस होटल के तौर पर अपना पहला कदम बढ़ा रही है. इसकी सफलता पर ही काफी कुछ निर्भर है.नोट – प्रत्येक फोटो प्रतीकात्मक है (फोटो स्रोत: गूगल) [ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. EkBharat News अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Rutvisha patel

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *