बिना इन्टरनेट D2M टेक्नोलॉजी से चलेंगे अब वीडियो ? | देखिए video

बिना इन्टरनेट D2M टेक्नोलॉजी से चलेंगे अब वीडियो ? | देखिए video

बिना इंटरनेट कनेक्शन (Internet Connection) के भी फिल्में देखी जा सकेंगी. क्रिकेट का लाइव स्कोर पता चलेगा और मल्टीमीडिया कंटेंट (Multimedia Content) को एक्सेस कर पाएंगे. यूजर को यह सब कुछ डायरेक्ट-टू-मोबाइल यानी D2M ब्रॉडकास्टिंग टेक्नोलॉजी (Direct to mobile broadcasting) की मदद से मिल पाएगा. इस तकनीक के फायदे क्या हैं और यूजर तक इसे कैसे पहुंचाया जा सकता है, इसके लिए डिपार्टमेंट ऑफ टेलीकम्यूनिकेशन (DoT) और पब्लिक सर्विस ब्रॉडकास्टर प्रसार भारती मिलकर काम कर रहे हैं. इस नई तकनीक की टेस्टिंग के लिए टेलीकम्यूनिकेशन डिपार्टमेंट ने IIT कानपुर के साथ साझेदारी भी की थी. सब कुछ योजना के मुताबिक होता है तो यूजर बिना इंटरटेट के भी मल्टीमीडिया कंटेंट देख पाएंगे.

क्या है D2M ब्रॉडकास्टिंग तकनीक?

आसान भाषा में समझें तो यह तकनीक सीधे तौर पर मल्टीमीडिया कंटेंट आपके मोबाइल पर टेलीकास्ट करेगी. ठीक वैसे ही जैसे आप एफएम सुनते हैं और इसके लिए किसी वायर कनेक्शन की जरूरत नहीं होती. लाइव क्रिकेट मैच से लेकर या खबरों के अपडेट तेज स्पीड के साथ मिलेंगे. इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, इस तकनीक के जरिए यूजर अपने मोबाइल पर बिना इंटरनेट के ओटीटी कंटेंट भी देख सकेगा.

यूजर्स को कितना फायदा होगा?

बिना इंटरनेट के फिल्में और OTT कंटेंट देख सकेंगे, न बफरिंग होगी और न वीडियो  क्वालिटी गिरेगी, जानिए यह कैसे होगा | TV9 Bharatvarsh

वर्तमान में कई बार इंटरनेट कनेक्शन स्लो होने के कारण वीडियो की विजुअल क्वालिटी पर फर्क पड़ता है, बफरिंग होती है और कंटेंट रुक जाता है. ब्रॉडकास्ट तकनीक के जरिए इन समस्याओं से राहत मिलेगी क्योंकि इसके लिए इंटरनेट का प्रयोग किया ही नहीं जाएगा.

इसका एक फायदा और भी है. यूजर्स तक पहुंचने वाली फेक जानकारियों को रोकने में मदद मिलेगी. यूजर्स तक हर जानकारी सीधे पहुंचेगी. देश में इमरजेंसी की स्थिति में इंटरनेट बाधा नहीं बनेगा. हर जानकारी सीधे तौर पर यूजर तक पहुंच सकेगी. इस तकनीक का बड़ा फायदा दूरदराज या गांव में रहने वाले उन लोगों को मिल सकेगा जिनके पास इंटरनेट नहीं है या इंटरनेट कनेक्टिविटी कमजोर है.

कितनी अलग है यह तकनीक?

आसान भाषा में समझें तो यह तकनीक ब्रॉडबैंड और ब्रॉडकास्ट से मिलकर विकसित की गई है. हाल ही में दिल्ली में आयोजित हुए ‘डायरेक्ट-टू-मोबाइल एंड 5G ब्रॉडबैंड कनवर्जेंस रोडमैप फॉर इंडिया’ प्रोग्राम में इससे जुड़ी कई अहम जानकारियां दी गईं. इस प्रोग्राम में सूचना और प्रसारण मंत्रालय के सचिव अपूर्व चंद्रा ने कहा, डायरेक्ट-टू-मोबाइल और 5G ब्रॉडबैंड मिलकर देश में ब्रॉडबैंड और स्पेक्ट्रम के इस्तेमाल में सुधार लाएंगे.

अगर सब कुछ योजना के मुताबिक होता है तो D2M ब्रॉडकास्टिंग तकनीक देश में एक बड़ा गेमचेंजर साबित हो सकती है. इससे यूजर्स के साथ टेलिकॉम कंपनियों को भी सीधेतौर पर फायदा होगा. वो इस तकनीक से वीडियो ट्रैफिक को अपने मोबाइल नेटवर्क से ब्रॉडकास्ट नेटवर्क पर ऑफलोड कर सकते हैं। नोट – प्रत्येक फोटो प्रतीकात्मक है (फोटो स्रोत: गूगल) [ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. EkBharat News अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Rutvisha patel

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *