भारत की एक ऐसी नदी जहां पानी में बहता है सोना, देखिए video

भारत की एक ऐसी नदी जहां पानी में बहता है सोना, देखिए video

भारत में सबसे ज्यादा बिकने वाली धातुओं में से एक है सोना। यहां इसकी काफी डिमांड रहती है। मगर क्या आप जानते हैं कि भारत में एक ऐसी नदी बहती है, जिसमें से सोना निकलता है। ये बात जानकर शायद आप हैरान हो रहे होंगे, मगर ये बात बिल्कुल सच है। सोने की इस नदी की रेत में से सालों से सोना निकाला जा रहा है। इस नदी के आसपास रहने वाले लोग उसमें से सोना निकालकर अपनी गुजर-बसर करते हैं। सोना निकलने की वजह से इस नदीं को सोने की नदी भी कहा जाता है।

झारखंड में बहती है सोने की नदी

हम जिस नदी की बात कर रहे हैं वो नदी झारखंड में बहती है और उसका नाम स्वर्णरेखा है। नदी में पानी के साथ सोना बहने की वजह से इसे स्वर्णरेखा नदी के नाम से जाना जाता है। स्वर्णरेखा नदी का उद्गम रांची से करीब 16 किमी दूर है। इसकी कुल लंबाई 474 किमी है। यह नदी झारखंड, पश्चिम बंगाल और ओडिशा के कुछ इलाकों में भी बहती है। स्वर्ण रेखा और उसकी सहायक नदी करकरी में सोने के कण पाए जाते हैं। लोगों का मानना है कि सोने के कण करकरी नदी से बहकर ही स्वर्ण रेखा नदी में पहुंचते हैं। आज तक यह रहस्य बना हुआ है कि इन दोनों नदियों में सोने के कण कहां से आते हैं।

कहा से आता है सोना, रहस्यमयी है वजह

भारत की वो नदी जहाँ पानी के साथ बहता है सोना, महीने में मिलते हैं 60 से 80  सोने के कण - Tripoto

आपको जानकर हैरानी होगी कि सैकड़ों सालों बाद भी वैज्ञानिकों को यह पता नहीं चल पाया है कि इस नदी में सोना क्यों बहता है। भू-वैज्ञानिक ये तर्क देते हैं कि ये नदी तमाम चट्टानों से होकर नदी गुजरती है। इसी दौरान घर्षण की वजह से सोने के कण इसमें घुल जाते हैं। बता दें कि नदी से सोना निकालना बेहद मुश्किल काम है। नदी की रेत से सोना इकट्ठा करने के लिए लोगों को दिनभर मेहनत करनी पड़ती है। नदी में मिलने वाले सोने के कण चावल के दाने के बराबर या उससे छोटे भी होते हैं।

सोना निकालकर गुजर-बसर करते हैं आसपास के लोग

झारखंड में कुछ ऐसी जगहें हैं, जहां स्थानीय आदिवासी इस नदी में सुबह जाते हैं और दिन भर रेत छानकर सोने के कण इकट्ठा करते हैं। इस काम में उनकी कई पीढ़ियां लगी हुई हैं। तमाड़ और सारंडा जैसे इलाके ऐसे हैं जहां पुरुष, महिलाएं और बच्चे सुबह उठकर नदी से सोना इकट्ठा करने जाते हैं। इस नदी के आसपास जाने पर जगह-जगह सूप लिए खड़ी महिलाएं दिख जाएंगी। नोट – प्रत्येक फोटो प्रतीकात्मक है (फोटो स्रोत: गूगल) [ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. EkBharat News अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Rutvisha patel

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *