हवाई यात्रा में नहीं ले जाना चाहिए मरकरी वाला थर्मामीटर, जानिए क्या है वजह l देखिए video

हवाई यात्रा में नहीं ले जाना चाहिए मरकरी वाला थर्मामीटर, जानिए क्या है वजह l देखिए video

हवाई यात्रा जितनी सुगम है उतनी ही संवेदनशील भी है. इसे ध्यान में रखते हुए इसकी सुरक्षा और यात्रियों की सुविधाओं के लिए कड़े नियम भी बनाए गए हैं. इन्हीं में ऐसा भी एक नियम है, जिसके तहत हवाई जहाज से यात्रा के दौरान पारे वाला थर्मामीटर (Mercury Thermometer) ले जाने पर रोक है.

क्यों नहीं लेकर जा सकते थर्मामीटर

हवाई जहाज में थर्मामीटर न ले जाने का कारण है इसमें प्रयोग किया गया पारा यानी कि मरकरी. असल में पारा एक ऐसा पदार्थ है जिसे एल्युमिनियम का सबसे बड़ा दुश्मन माना जाता है. पारे से एल्युमिनियम को भारी नुकसान होता है.

इंटरव्यू का सवालः हवाई जहाज में थर्मामीटर ले जाना क्यों मना है?

चूंकि हवाई जहाज को बनाने में सबसे ज्यादा एल्युमिनियम का ही प्रयोग होता है इसलिए पारा या उससे संबंधित कोई भी सामान इसमें लाने पर प्रतिबंध है. कहा जाता है कि अगर पारे वाला थर्मामीटर हवाई जहाज में टूट गया तो उसमें मौजूद थोड़े से पारे की वजह से भी बहुत बड़ी दुर्घटना हो सकती है यहां तक कि हवाई जहाज क्रैश भी हो सकता है.

हवाई जहाज में ऐसे मापते हैं बुखार

अब एक जायज सवाल उठता है कि अगर हवाई जहाज में थर्मामीटर लेकर नहीं जा सकते तो फिर वहां कैसे बुखार मापते हैं. इसके लिए आज हम देखते हैं कि शरीर का तापमान मापने के लिए तमाम नई मशीनें आ गई हैं.

हमने कोरोना वायरस के दौरान बिना छुए तापमान मापने वाली मशीन भी देखी है. इसमें पारा भी नहीं होता है ऐसे में इस मशीन का प्रयोग हवाई जहाज में भी किया जाता है और लोगों का तापमान मापा जाता है.नोट – प्रत्येक फोटो प्रतीकात्मक है (फोटो स्रोत: गूगल) [ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. EkBharat News अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Rutvisha patel

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *